Thoughts of Mahatma Gandhi

You are here

  • हरेक आदमीको अपना मूल ढुंढना चाहीये ।

    न[ई] दि[ल्ली] २ सितम्बर १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
  • जो अपनेको नहीं पहचानता है वह नष्ट होता है ।

    न[ई] दि[ल्ली] ३ सितम्बर १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
  • मनुष्य शरीर वाजित्र [वादित्र] है जैसा सूर निकालना है निकल सकता है ।

    न[ई] दि[ल्ली] ४ सितम्बर १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
  • विचारको [लौह]खंडकी दीवारको भी भेदता है ।

    न[ई] दि[ल्ली] ५ सितम्बर १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
  • मरो और तरो ।

    न[ई] दि[ल्ली] ६ सितम्बर १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
  • श्रद्धासे जहाज चलती है ।

    न[ई] दि[ल्ली] शनी, ७ सितम्बर १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
  • मौतकी धमकीसे क्या डरना क्योंकि वह तो सदाकी है ही ।

    न[ई] दि[ल्ली] रवी, ८ सितम्बर १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
  • हम सब दीवाने हैं उनमें कौन किसको दीवाना कहे?

    न[ई] दि[ल्ली] सोम, ९ सितम्बर १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९३
  • जब हम पार्टी साफ़ करते हैं तो उसपर ईश्वरके हस्ताक्षर स्पष्ट देखते है ।

    न[ई] दि[ल्ली] मंगल, १० सितम्बर १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९३
  • आकांक्षा कितनी भी बड़ी हो उसकी मर्यादामें छोटेसे-छोटा माना जाता प्राणी भी होना चाहिये ।

    न[ई] दि[ल्ली] बुध, ११ सितम्बर १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९३
GoUp