Thoughts of Mahatma Gandhi

You are here

  • मनुष्यके भीतर ही गंगा पड़ी है उसमें स्नान नहीं कर पाटा और कोरा रहता है ।

    से[वाग्राम] शुक्र, २३ अगस्त १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९१
  • बलिदान वही कर सकता जो शुद्ध है, निर्भय है, योग्य है ।

    से[वाग्राम] शनि, २४ अगस्त १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९१
  • निराश[] आदमीको खाती है ।

    दिल्लीकी ट्रेनपर रवि, २५ अगस्त १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९१
  • ईश्वरको पहचानना है तो स्वार्थ और भयको छोडना ही है ।

    नयी दि[ल्ली] सोम, २६ अगस्त १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९१
  • बलात्कारके वश होना नामर्दीकी निशानी है ।

    नयी दि[ल्ली] मंगल, २७ अगस्त १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९१
  • भिलों [भीलों] की सच्ची सेवा है कि उनको निर्भय करें और उनकी निराशा मिटावें ।

    न[ई] दि[ल्ली] बुध, २८ अगस्त १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
  • सबसे बडी चुप ।

    न[ई] दि[ल्ली] गुरु, २९ अगस्त १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
  • घमंडीको प्रकाश मिल ही नहीं सकता ।

    न[ई] दि[ल्ली] शुक्र, ३० अगस्त १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
  • गंगा जलको छोडकर प्यास मिटाना और ईश्वरको छोडकर आत्म तृप्ति करना सरिखा असंभव है ।

    न[ई] दि[ल्ली] शनी, ३१ अगस्त १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
  • सिवा विरोधके कोई आगे नहीं बढ़ता है ।

    न[ई] दि[ल्ली] १ सितम्बर १९४६ सम्पूर्ण गांधी वाङ्मय खण्ड ८५, पृ. ४९२
GoUp